जाज्वल्यदेव कृषक आत्मा समिति बहेराडीह  वस्त्रम बुनकर सिवनी के रामाधार देवांगन ऑनलाइन शॉपिंग से आय दोगुनी करने वाले राकेश जायसवाल के विभिन्न उत्पाद की प्रदर्शनी

भारत के सर्वश्रेष्ठ कृषि विश्वविद्यालय जी पी पन्त नगर उत्तराखंड में  विगत 5 से 8 अक्टूबर तक आयोजित 104 वें अखिल भारतीय कृषि मेला व कृषि उद्योग प्रदर्शनी संपन्न हुआ। जिसमें छत्तीसगढ़  के सभी 26 कृषि विज्ञान केंद्र में से कृषि विज्ञान केंद्र जांजगीर को भागीदारी हेतु चयन किया गया। इस आयोजन के दौरान जाज्वल्य देव् कृषक आत्मा समिति बहेराडीह , वस्त्रम बुनकर सिवनी के रामाधार देवांगन व कृषि विज्ञान केंद्र के तकनीकी मार्गदर्शन में अंतर्राष्ट्रीय बाजार में 52 से अधिक कृषि उत्पाद को ऑनलाइन शॉपिंग से कृषि  में आय दोगुनी करने वाले राकेश जायसवाल के विभिन्न उत्पाद जिसमे गोबर के कंडे केंचुआ खाद देशी हल्दी काली हल्दी तुलसी माला व अन्य सामग्रियों की जीवंत प्रदर्शनी लगाई गई। पुरे भारत से आये हुये कृषकगण वैज्ञानिक गण तथा कृषि ब्यवसायिकजनों ने जिले के कृषकों की नवाचार की जीवंत प्रदर्शनीय को खूब सराहा

पन्त नगर कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने रूचि लेते हुए केले व अलसी से बने कपड़ों के बारे में और अधिक जानने की जिज्ञासा व्यक्त की। जिज्ञासा व अनुशंसा की आधार पर कृषि विज्ञान केंद्र जांजगीर के स्टॉल को सर्वश्रेष्ठ नवाचार प्रदर्शनी हेतु सरकारी समूह में विशेष पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

इस संबंध में कृषि विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक व प्रभारी के डी महंत ने बताया कि इस चार दिवसीय प्रदर्शनी हेतु केंद्र के वैज्ञानिकों के संयुक्त प्रयास से पुरस्कार मिला | इसके अलावा इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय रायपुर के कुलपति डॉ एस के पाटील , जिले के कलेक्टर नीरज बंसोड़ जिला पंचायत सीईओ अजित बसंत के कुशल मार्गदर्शन के कारण ही सफलता प्राप्त हुआ। तकनीकी सहायक मनोज साहू , पीयूष निषाद ने केंद्र की ओर से प्रदर्शनी स्टॉल का प्रतिनिधित्व किया। इस कार्य के सफलता के पीछे वैज्ञानिक शशिकांत सूर्यवंशी, राजीव दीक्षित, जयंत साहू, श्रीमती एकता ताम्रकर, अधिष्ठाता डॉ केएनएस बनाफर प्रगतिशील नवाचार कृषक दीनदयाल यादव जितेंद्र कुमार यादव श्रीमती रेवती यादव श्रीमती गीता यादव शोभाराम यादव राजेश कुमार यादव श्रीमती बेदिन बाई कौशिक जागेश्वर कौशिक सतरूपा यादव संतोषी यादव कान्ति बाई कश्यप श्रीमती निर्मला बरेठ श्रीमती द्रौपती बरेठ श्रीमती बबिता कौशिक कुशल देवांगन रामाधार देवांगन राकेश जायसवाल चंद्रकांत कंवर अश्वनी यादव श्रीमती हर बाई कंवर श्रीमती बबिता यादव श्रीमती सुशीला गबेल राजू साहू राहुल महंत समेत जिले के प्रगतिशील कृषकों का विशेष योगदान रहा।

SHARE