राहुल के साथ अलग चर्चा के मायने

जो दौरा तय नहीं उस पर टिका बयान

पुनिया के साथ दिखे धनेन्द्रऔर रविन्द्र

पीछे ही रहे भूपेश , डिप्लोमैटिक बयानों से कुछ और ही संकेत..

राहुल गांधी से शुक्रवार की शाम छत्तीसगढ़ के प्रभारी समेत नेताओं की पूरी फौज उस दौरे की चर्चा करती रही जिसकी तिथि भी निर्धारित नहीं है | कम से कम मीडिया को दिए बयानों से तो यही जाहिर हो रहा है | इन्ही बयानों से सारा विवाद भी सांकेतिक रुप से सामने भी आ जाता है |
फाइल फोटो
पुनिया के साथ फ्रंट फुट पर आत्मविश्वास से लबरेज पूर्व अध्यक्ष धनेन्द्र साहू और पूर्व नेता प्रतिपक्ष रविन्द्र चौबे के चेहरे रणनीतिक जीत की कहानी कहते दिखे | विवादों में घिरे प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल और उनके तारणहार की भूमिका निबाहने की कोशिश कर रहे नेता विपक्ष सिंहदेव पीछे ही रहे | उनके चेहरों में इस शह और मात के खेल में मोहरा पिट जाने सा भाव साफ झलकता रहा | इन सबके बीच महंत की उपस्थिति के बाद सामने नहीं आना भी नये संकेत दे रहा है | चुनाव प्रचार के संबंध में राहुल गांधी से विचार विमर्श का बयान देते नेताओं की शारीरिक भाषा जल्द ही किसी बड़े सियासी फैसले की दलील दे रहे हैं | संकट फिलहाल टल गया है पर पुनिया और सिंहदेव दोनों के बयानों से यह स्पष्ट है कि पिक्चर अभी बाकी है…

 

 

SHARE