26 C
Raipur
Saturday, December 15, 2018
Home राजनीति

राजनीति

घोषित उम्मीदवारों की पांच विधानसभा में लगी आग, जमीनी कैडर निराश  कार्यकर्ताओं ने कहा पहले भाजपा को ही मुक्त कराना होगा फिर कांग्रेस की सोचेंगे कुछ जोगी की शरण में तो कुछ ने घर में सफाई का बीड़ा उठाया जिले में पांच...
सक्ती विधानसभा से चरणदास महंत अकलतरा से ऋचा जोगी के लड़ने के स्पष्ट संकेत  पूरे जिले में टिकट वितरण की बन रही नयी रणनीति  जांजगीर चांपा विधानसभा में भी होगा निर्णायक असर जिले की सियासत में तितली तूफान सा असर दिखने लगा...
स्टिंग ऑपरेशन की छाया नमूदार, अंदरुनी हालातों पर झूठ से परेशान आम कांग्रेसी  सर्वे इस पर हो कि कांग्रेस जीतना चाहती है या नहीं भड़के कार्यकर्ता बोले जीत की बंधी आशाओं पर पानी फेरने से बाज आए बडे़ नेता  एक कांग्रेस कमेटी...
मुख्यतः चार भागों में बंटा अकलतरा का वोटिंग पैटर्न  जोगी लडे़गें कि बसपा इस पर असमंजस ने ठिठका रखी है राजनीतिक बहस दीगर पार्टियों की सारी रणनीति वर्तमान विधायक को प्रत्याशी मान बुनी गई है अकलतरा में चार मुख्य क्षेत्र हैं जिनका...
     राहुल गांधी की तरह देश भर में चर्चा का विषय थे शिवभक्त रामलाल भी विस का साक्षरता प्रतिशत का औसत देश के औसत से ज्यादा  हर बार अप्रत्याशित परिणाम वाले अकलतरा का क्या है मिजाज?  एक नगर पालिका एक नगर...
नई मतदाता सूची के मुताबिक जिले में मतदाताओं की संख्या 12 लाख 38 हजार 613    पुरूष मतदाताओं की संख्या 6 लाख 33 हजार 763  महिला मतदाताओं की संख्या 6 लाख 4 हजार 850 है सक्ती और जैजैपुर के अलावा सभी विधानसभाओं...
चुनाव आयोग ने पांच राज्यों मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, मिजोरम और तेलंगाना में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया। पहले चरण में सबसे पहले छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित इलाके में 18 सीटों पर 12 नवंबर को मतदान...
कांग्रेस - भाजपा दोनों बदल सकती है चेहरा नित नये समीकरण से हलाकान उम्मीदवार  मुख्यालय की सीट तय करेगी चुनावी मिजाज जांजगीर चांपा विधानसभा जातिवाद सहित समस्त ध्रुवीकरण के मानकों से दूर ही रही है यहाँ का मतदाता हर चुनाव में अलग...
राहुल के साथ अलग चर्चा के मायने जो दौरा तय नहीं उस पर टिका बयान पुनिया के साथ दिखे धनेन्द्रऔर रविन्द्र पीछे ही रहे भूपेश , डिप्लोमैटिक बयानों से कुछ और ही संकेत.. राहुल गांधी से शुक्रवार की शाम छत्तीसगढ़ के प्रभारी समेत...
बघेल सीडी पॉलिटिक्स के शिकार ?  आलाकमान अब तीखे तेवर नहीं चाहता ?     सुधार - समझौते की राह पर कांग्रेस? महंत सहित कई नेताओं को आनन फानन में दिल्ली बुलाने की खबरों ने ये तमाम प्रश्न चिन्ह पैदा कर दिए हैं...